Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2016 · 1 min read

नव्य वर्ष शुभ मंगलमय है ! — जितेंद्रकमलआनंद ( १०२)

नव्य वर्ष शुभ मंगलमय है ! ( गीत )
*********************
सूऋ्य अग्रसर उत्तर दिशि में , नव्य वर्ष शुभ मंगलमय है ।।

आशा के पल्लव अधरों पर थिरक रही नव सुस्मित लाली ।
खिलने लगा कमलका आनन,लगीकूकने कोयल आली
सतरंगी किरणों के रथ पर निकले रवि की पूर्ण विजय है

नीले- पीले,लाल- गुलाबी फूलोंके तन लगे महकने ।
नव विहान पर नवल पंख धर खगकुल भ हैं लगे चहकने
धरती तक अनुकूल व्योम से रंगसँयोजन सुंदर लय है ।।

कविकुल हर्षित सुरभित नंदन मुदित धरित्री मगन गगन है
प्रगतिमार्ग पर बढ़ते जानेकी ही लगी लगन है ।
संध्या को अम।त बरसाता विधु पृध्वीपृध्वी का पूत तनय है ।।
,——- जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
Tag: गीत
182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
Vishal babu (vishu)
मेरा चाँद न आया...
मेरा चाँद न आया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"चरित्र-दर्शन"
Dr. Kishan tandon kranti
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
Ram Krishan Rastogi
देश की हालात
देश की हालात
Dr. Man Mohan Krishna
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
विमला महरिया मौज
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कलम बेच दूं , स्याही बेच दूं ,बेच दूं क्या ईमान
कवि दीपक बवेजा
✍️चीते की रफ़्तार
✍️चीते की रफ़्तार
'अशांत' शेखर
पायल बोले छनन छनन - देवी गीत
पायल बोले छनन छनन - देवी गीत
Ashish Kumar
अंबेडकर की आख़िरी इच्छा
अंबेडकर की आख़िरी इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
पापा मम्मी सुन लो कहना (बाल कविता)
पापा मम्मी सुन लो कहना (बाल कविता)
Ravi Prakash
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
जब मैं परदेश जाऊं
जब मैं परदेश जाऊं
gurudeenverma198
कह दूँ बात तो मुश्किल
कह दूँ बात तो मुश्किल
Dr. Sunita Singh
जै जै अम्बे
जै जै अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मोर
मोर
Manu Vashistha
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
Awadhesh Kumar Singh
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
ग़ज़ल- मेरे दिल की चाहतों ने
ग़ज़ल- मेरे दिल की चाहतों ने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
श्राद्ध ही रिश्तें, सिच रहा
श्राद्ध ही रिश्तें, सिच रहा
Anil chobisa
#सबक जिंदगी से #
#सबक जिंदगी से #
Ram Babu Mandal
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत  है।
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
ज़ख़्मों पे वक़्त का
ज़ख़्मों पे वक़्त का
Dr fauzia Naseem shad
One day you will leave me alone.
One day you will leave me alone.
Sakshi Tripathi
Loading...