Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नवाब तो छा गया …

अरे नवाब तू तो छा गया ,
चौपाओं में सबसे सर्वश्रेष्ठ ।
भाग्य से पाए प्यारे माता पिता ,
भोले की कृपा दिलवाई विशेष ।

चार धाम यात्रा करवा कर ,
जिन्होंने तेरा जन्म संवारा ।
जीव तो बेजुबान ही सही ,
परंतु पशु है तू सबसे न्यारा ।

होगी तू कोई शापित रूह,
जो जन्म से श्वान बन गया ।
मगर कर्म तेरे सबसे उच्च ,
तुझे मुक्ति का मार्ग मिल गया ।

धन्य हैं तेरे अभिभावक,
सच्चे भगवान के भक्त ।
जिनकी अंतरात्मा ने माना ,
तुझे भी बना दिया उसका भक्त ।

ईश्वर की नजर में सभी जीव एक है ,
हैं सभी उसकी संताने ।
मगर यह अंधविश्वासी , पोंगा पंडित,
यह गूढ़ रहस्य का ज्ञान ना जाने ।

एक तरफ देवताओं के साथ ,
उनके वाहनों को तो पूजते ।
सिंह ,नंदी , हो या मूषक ,श्वान ,
परंतु आया द्वार जब भेरों बाबा का रूप ,
तो जाने क्यों हैं दुत्कारते ।

सही मायनों में अब इस कलयुग में ,
यही तो है शुद्ध और पवित्र आत्मा ।
मानवीय बुराइयां ,पापों से कोसों दूर ,
निष्कपट ,निष्कलंक देव तुल्य आत्मा।

फिर क्यों न हो इन्हें देव दर्शन का अधिकार ,
और क्यों न शामिल हो पूजा अर्चना में?
बुद्धि और ह्रदय इनके तन में भी है ,
कोई कमी नहीं इनके ईश्वरीय आराधना में।

निसंदेह यह हो सकते है ,
ईश्वर के अधिक निकट ।
कामनाएं ,इच्छाएं , लालच ,
के बिना इनका जीवन निष्कंटक ।

आज के मानव से पशु ही श्रेष्ठ है ,
जिनमें मानव न होते हुए भी है मानवता ।
मगर मानव में मानव होकर भी न बची ,
थोड़ी सी भी मानवता ।

नवाब को उसके अभिभावकों ने न माना ,
केवल पशु ,अपितु माना एक ईश्वर का अंश ।
पुत्र बनाकर पालन पोषण किया ,
बनाया उसे अपने जीवन का महत्वपूर्ण अंश ।

धन्य है त्यागी दंपत्ति ,
जिनका ज्ञान और विचार हैं सर्वश्रेष्ठ ।
ऐसे बेजुबानों को प्यार करने वाले ,
इंसान होते है दुनिया में सबसे श्रेष्ठ ।

2 Comments · 163 Views
You may also like:
पिता
Surabhi bharati
✍️जिंदगी के सैलाब ✍️
'अशांत' शेखर
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
'अशांत' शेखर
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
शम्मा ए इश्क़।
Taj Mohammad
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
पिता
KAMAL THAKUR
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
सावधान हो जाओ, मुफ्त रेवड़ियां बांटने बालों
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
बेदर्द -------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जवानी
Dr.sima
मोहब्बत ना कर .......
J_Kay Chhonkar
देख आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...