Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2024 · 1 min read

नववर्ष का आगाज़

नववर्ष 2024 का आगाज़ हो रहा है,
दिल और घर दोनों में खुशी का माहौल हो रहा है।
पुरानी यादों को छोड़ दिल नए सपने संजो रहा है।

नववर्ष हमें नया उत्साह, नई उमंग,चुनौतियों का परिचय देता है,
जो कर जाए सामना इनका उसी का जीवन सफल होता है।

नए साल पर यही हमने ठानना है,
पूरी मेहनत कर अपने लक्ष्य को पाना है।
हर मुश्किल का हिम्मत से करना सामना है,
ऐसे ही ज़िंदगी मेंं आगे बढ़ना है।
खुशियों को मनाकर अपने दुखों को सांझा करना है।

नववर्ष पर “चहक” करती है यह कामना,
हर किसी को मिले प्यार और खुशी,
कभी किसी दुख से किसी का न हो सामना,
ईर्ष्या, द्वेष की किसी के मन न हो भावना,
करती है वंदना आपके मंगलमयी जीवन की कामना।

वंदना ठाकुर “चहक”

Tag: Poem
93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*परियों से  भी प्यारी बेटी*
*परियों से भी प्यारी बेटी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"चालाक आदमी की दास्तान"
Pushpraj Anant
शब्दों में समाहित है
शब्दों में समाहित है
Dr fauzia Naseem shad
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
"सोचो ऐ इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
spam
spam
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
shabina. Naaz
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
sushil sarna
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
दास्तां
दास्तां
umesh mehra
शिव रात्रि
शिव रात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"पसंद और प्रेम"
पूर्वार्थ
*रामचरितमानस अति प्यारा (चौपाइयॉं)*
*रामचरितमानस अति प्यारा (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
कवि दीपक बवेजा
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
■ व्यंग्य / मूर्धन्य बनाम मूढ़धन्य...?
■ व्यंग्य / मूर्धन्य बनाम मूढ़धन्य...?
*Author प्रणय प्रभात*
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...