Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 28, 2017 · 1 min read

नवदुर्गाओं के औषधिय रूप

दैत़्य रूपी रोगे से लडती,
दुर्गा औषधि रूप में ।
‘हरड़’ रूप धर शैलपुत्री,
लडती उदर विकार में।।
ब्रह्मचारिणी है ब्राह्मी ‘में,
बुद्धी देती विचार में ।
चन्द्रघण्टा वसती ‘चंदूसुर’में,
लड़ती चर्म विकार में।।
कुष्मांडा़ ‘कुम्हड़ा’में बैठी,
जूझें रक्त विकार में।
स्कंदमाता है ‘तुलसी’ में,
बचाती त्रिदोष की चाल में।।
‘मोइया’में कात्यायनी बसती,
कफ रूपी दैत्यों से लडती।
कालरात्रि है ‘नागदौन’ में,
मन,मष्तिक में ताकत करती।।
महागौरी का रूप है ‘तुलसी’,
शक्ति,यौवन स्थिर रखती।
सिद्धिदात्री रूप में ‘शतावरी’,
जीवनीरस से पूरित करती।।
नवरूपों में माता दुर्गा,
नाना औषधियों में रहती है।
प्राणी मात्र को निरोग बनाने,
शक्तिरूप,प्रकृति में बसती है।।
राजेश कौरव सुमित्र

1 Like · 284 Views
You may also like:
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पापा
Anamika Singh
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
# पिता ...
Chinta netam " मन "
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
देश के नौजवानों
Anamika Singh
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Loading...