Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2022 · 1 min read

नवगीत

विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ –

गुलदस्ता नहीं
बाग बनाओ जीवन को

चह- चह करती
चिड़िया जिसमें
प्रातःखिलती
कलियाँ उसमें
एक नया फिर
राग बनाओ जीवन को

सर्दी के संग
गर्मी झेले
सीने पर
ओले भी लेले
काम पड़े तो
आग बनाओ जीवन को

लोहा जैसे
काटे लोहा
बने प्रदूषण
उम्र का दोहा
साँसों का वह
भाग बनाओ जीवन को

.

2 Likes · 75 Views
You may also like:
** भावप्रतिभाव **
Dr.Alpa Amin
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
महबूब
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
भ्रष्टाचार पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
पापा
Nitu Sah
मेरे पापा
Anamika Singh
दिल की तमन्ना।
Taj Mohammad
फल
Aditya Prakash
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
'अशांत' शेखर
मेरी हर शय बात करती है
Sandeep Albela
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
Dear Mango...!!
Kanchan Khanna
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
शांति....
Dr.Alpa Amin
✍️आओ हम सोचे✍️
'अशांत' शेखर
मेरी प्रथम शायरी (2011)-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दर बदर।
Taj Mohammad
आब अमेरिकामे पढ़ता दिहाड़ी मजदूरक दुलरा, 2.5 करोड़ के भेटल...
श्रीहर्ष आचार्य
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
अंतरराष्ट्रीय मित्रता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
लेख : प्रेमचंद का यथार्थ मेरी दृष्टि में
Sushila Joshi
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
✍️✍️अतीत✍️✍️
'अशांत' शेखर
Loading...