Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नर कंकाल

जब भी जहां भी मैं इस
नर कंकाल को।lदेखती हूं ।
तो बहुत डर सी जाती हूं ।
और ये सोचती हूं की ,
इंसान शैतान कैसे बनता है ?
अपने अति महत्वाकांक्षी मन के
दुष्प्रभाव से ,
या इस नर कंकाल की भयावता के
कारण से ?

6 Likes · 8 Comments · 317 Views
You may also like:
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
✍️धुप में है साया✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
दुश्वारियां
Taj Mohammad
प्यार करने की कभी कोई उमर नही होती
Ram Krishan Rastogi
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
O brave soldiers.
Taj Mohammad
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
औनी पौनी बातें
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता
Dr.Priya Soni Khare
तेरे वजूद को।
Taj Mohammad
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
अब तो ज़ख्मो से रिश्ता पुराना हुआ....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
कर तु सलाम वीरो को
Swami Ganganiya
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिन्दगी और चाहत
Anamika Singh
ज़मीं की गोद में
Dr fauzia Naseem shad
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
डिजिटल प्यार था हमरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...