Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2022 · 1 min read

नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)

चल रही
पूजा पुरातन
नर्मदा के
घाट पर ।

नर्मदा से
भी अधिक
प्राचीन मंत्रों
का सहारा
ले,पुरोहित
बह रहा है
कर्म की
विपरीत धारा ।
कथा है ये
सत्य की,पर
झूठ के मुँह
पर चढ़ी है,
व्यथा ये
कर्तव्य की
कर्तव्यहीनों
ने पढ़ी है ।

वीर श्रावक
बैठ जाते
हीनता के
टाट पर ।

नीर इसका
क्षीर जैसा
भाव है
अनवरत सेवा,
निर्धनों को
पालती है
दे रही है
धान्य, मेवा ।
इस किनारे
उस किनारे
मंदिरों में
औ’ घरों में,
पिस रहा है
भाव सच का
झूठ के
आडंबरों में ।

बिक रहा है
विष हलाहल
इमरती के
पाट पर ।

बह रही है
मधुर रेवा
चाँदनी से
अधिक शीतल,
भक्त
परकम्मा लगाते
वाहनों से
और पैदल ।
जानते कुछ
भी नहीं हैं
पंडितों के
‘कान लगते’,
धुंध में
आडंबरों की
स्वर्ण जैसे
प्रहर ढहते ।

भेंट चढ़ती
अर्थ-लिप्सा
अंध-श्रद्धा-
हाट पर ।

— ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश ।

Language: Hindi
Tag: गीत
14 Likes · 24 Comments · 327 Views
You may also like:
✍️न जाने वो कौन से गुनाहों की सज़ा दे रहा...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जिंदगी देखा तुझे है आते अरु जाते हुए।
सत्य कुमार प्रेमी
हनुमंता
Dhirendra Panchal
विद्यालय का गृहकार्य
Buddha Prakash
“ हृदयक गप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
नशा - 1
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
व्यवस्था का शिकार
Shekhar Chandra Mitra
हिंदी व डोगरी की चहेती लेखिका पद्मा सचदेव का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
सोचा था जिसको मैंने
Dr fauzia Naseem shad
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरा सुकूं चैन ले गए।
Taj Mohammad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
'राजूश्री'
पंकज कुमार कर्ण
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्यों करूँ नफरत मैं इस अंधेरी रात से।
Manisha Manjari
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
✍️✍️शिद्दत✍️✍️
'अशांत' शेखर
"अच्छी आदत रोज की"
Dushyant Kumar
#नाव
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बेकाबू हुआ है ये दिल तड़पने लगी हूं
Ram Krishan Rastogi
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेशक
shabina. Naaz
नशा मुक्त अनमोल जीवन
Anamika Singh
*लखनऊ का नवीनतम नवाबी-महल पिलेसिओ मॉल*
Ravi Prakash
🚩सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पैसा
Sushil chauhan
Loading...