Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 14, 2022 · 2 min read

नया सूर्योदय

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की मकान -कोठी -बंगला बनाना आसान ही नहीं बहुत आसान है मगर इनको प्यार मोहब्बत अपनेपन विश्वास अहसास और दर्द द्वारा घर बनाने में उम्र निकल जाती है ,सोच कर देखिये की आप घर में रहते हैं या मकान में …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की जो रिश्ते समझौतों की बैसाखियों पर टिके होते हैं उनमें सब कुछ दिखावटी होता है -झूठी हंसी -झूटी बातचीत -झूठा विश्वास -सब कुछ झूठा …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की कई मर्तबा जिंदगी में जिंदगी को जिन्दा रखने के लिए रातों को जिन्दा रखना पड़ता है यानी रातों को जागना पड़ता है तभी नए रास्ते खुलते हैं और नया सूर्योदय होता है …,

आखिर में एक ही बात समझ आई की जहाँ जंग लग जाने से बड़ा सा बड़ा लोहा टूट जाता है उनमें सब कुछ दिखावटी होता है -झूठी हंसी -झूटी बातचीत -झूठा विश्वास -सब कुछ झूठा …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की कई मर्तबा जिंदगी में जिंदगी को जिन्दा रखने के लिए रातों को जिन्दा रखना पड़ता है यानी रातों को जागना पड़ता है तभी नए रास्ते खुलते हैं और नया सूर्योदय होता है …,

आखिर में एक ही बात समझ आई की जहाँ जंग लग जाने से बड़ा सा बड़ा लोहा टूट जाता है ठीक उसी प्रकार अनेकों झूटों के एकत्रित होने पर सच डगमगा जाता है और कई बार टूट भी जाता है …!

Affirmations:
106-मैं स्वयं में एक हूँ …
107-मैं एक प्राकर्तिक विजेता हूँ …
108-मैं अपनी आंतरिक बुद्धि के अनुसार चलता हूँ …
109-मैं ऐसा काम कर रहा हूँ जिसमें मुझे आनंद आता है …
110-मेरे पास बिलकुल सही स्थान है…

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ….सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ….!
🙏सुप्रभात 🌹
आपका दिन शुभ हो
विकास शर्मा'”शिवाया”
🔱जयपुर -राजस्थान 🔱

Affirmations:
106-मैं स्वयं में एक हूँ …
107-मैं एक प्राकर्तिक विजेता हूँ …
108-मैं अपनी आंतरिक बुद्धि के अनुसार चलता हूँ …
109-मैं ऐसा काम कर रहा हूँ जिसमें मुझे आनंद आता है …
110-मेरे पास बिलकुल सही स्थान है…

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ….सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ….!
🙏सुप्रभात 🌹
आपका दिन शुभ हो
विकास शर्मा'”शिवाया”
🔱जयपुर -राजस्थान 🔱

68 Views
You may also like:
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
बस इतनी सी ख्वाईश
"अशांत" शेखर
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
# स्त्रियां ...
Chinta netam " मन "
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
“माँ भारती” के सच्चे सपूत
DESH RAJ
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
फूल
Alok Saxena
लाल टोपी
मनोज कर्ण
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
The Magical Darkness
Manisha Manjari
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
ताला-चाबी
Buddha Prakash
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" मायूस धरती "
Dr Meenu Poonia
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
प्यार
Swami Ganganiya
Loading...