Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नयन हुए दो चार, जागी प्रीत पुरानी

सम्मुख पड़ी सांवरी सूरत, सुध-बुध सब विसराई
रोम रोम रोमांच हुआ, पलक नहीं झपकाई
देखत आनन मौन हुआ, बोलन लागे नैन
नयन नयन में हो गए, मीठे मीठे वैन
नयन हुए दो चार, जागी प्रीत पुरानी
तन मन दोनों हुए प़फुल्लित, प्रीत न हृदय समानी
देख रहे थे एकटक दोनों, पलक नहीं झपकानी
बने हुए हैं एक दूजे को, मन ही मन पहचानी
दृगों से अंतस उतर गईं, दो आत्माएं अंजानी

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 8 Comments · 156 Views
You may also like:
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मतलबी
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तमाम उम्र।
Taj Mohammad
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
लेख : प्रेमचंद का यथार्थ मेरी दृष्टि में
Sushila Joshi
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नैन अपने
Dr fauzia Naseem shad
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
✍️तन्हा खामोश हूँ✍️
"अशांत" शेखर
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
जहाँ न पहुँचे रवि
विनोद सिल्ला
बुद्धिजीवियों के आईने में गाँधी-जिन्ना सम्बन्ध
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरे खुदा की खुदाई।
Taj Mohammad
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
ज़माना कहता है हर बात ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
गुरु की महिमा पर कुछ दोहे
Ram Krishan Rastogi
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
Feel it and see that
Taj Mohammad
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
एक वही मल्लाह
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...