Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2020 · 1 min read

नमो नव दुर्गा

नमो नव दुर्गा,नमो नव ज्योति

घनाक्षरी छंद

भगवती भारत से भय का भगा दे भूत,
भयभीत भगत कोरोना के सताये हैं ।

दुष्ट निशाचर भारी,मार मार मार मैया,
काल घटा घिरी घर, पड़े घबड़ाए हैं ।

मोदी जी के मनन की, कोटि कोटि जनन की,
वायरस हनन की, ज्योति ये जलाये हैं ।

नौ बजे निशा में दीप नौ सजाये पूजन में,
नौ दुर्गा माता जी के चरण मनायें हैं ।

गुरू सक्सेना
नरसिंहपुर मध्यप्रदेश
6/4/2020

1 Like · 245 Views
You may also like:
गाँव की गोरी
गाँव की गोरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
दिल नहीं ऐतबार टूटा है
दिल नहीं ऐतबार टूटा है
Dr fauzia Naseem shad
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Sahityapedia
आदमी आदमी से डरने लगा है
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
खेल,
खेल,
Buddha Prakash
दान देने के पश्चात उसका गान  ,  दान की महत्ता को कम ही नहीं
दान देने के पश्चात उसका गान , दान की महत्ता...
Seema Verma
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
मुक्तक
मुक्तक
Dr. Girish Chandra Agarwal
✍️पत्थर का बनाना पड़ता है ✍️
✍️पत्थर का बनाना पड़ता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जीवन-दाता
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
*किस शहर में रहना पड़े (हिंदी गजल/गीतिका)*
*किस शहर में रहना पड़े (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
अवसान
अवसान
Shyam Sundar Subramanian
BLACK DAY (PULWAMA ATTACK)
BLACK DAY (PULWAMA ATTACK)
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कब बरसोगें
कब बरसोगें
Swami Ganganiya
💐प्रेम कौतुक-283💐
💐प्रेम कौतुक-283💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
ग़रीबों को फ़क़त उपदेश की घुट्टी पिलाते हो
ग़रीबों को फ़क़त उपदेश की घुट्टी पिलाते हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सोचिएगा ज़रूर
सोचिएगा ज़रूर
Shekhar Chandra Mitra
■ कटाक्ष / सेल्फी
■ कटाक्ष / सेल्फी
*Author प्रणय प्रभात*
वो पुरानी सी दीवारें
वो पुरानी सी दीवारें
शांतिलाल सोनी
मुकुट उतरेगा
मुकुट उतरेगा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
वक्त लगता है
वक्त लगता है
कवि दीपक बवेजा
मां
मां
Ankita Patel
एक यह भय जिससे
एक यह भय जिससे
gurudeenverma198
कुकुरा
कुकुरा
Sushil chauhan
**--नए वर्ष की नयी उमंग --**
**--नए वर्ष की नयी उमंग --**
Shilpi Singh
बसंत
बसंत
नूरफातिमा खातून नूरी
त्याग
त्याग
मनोज कर्ण
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Satish Srijan
Loading...