Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2022 · 1 min read

नमन करूँ कर जोर

*नमन करूँ कर जोर*

तुलसी दल औषधिय है ,
नमन करूँ करजोर ।
करे प्राण रक्षा सदा ,
खुशियाँ दे चहुँओर ।।
दीप शाम प्रज्वलित कर ,
अर्पित कर दो प्रीति ।
चरणों पड़ लो हरि प्रिया ,
करो भाग्य में भोर ।।1।।

तुलसी बिरवा रोपिये ,
कहते आत्मन संत ।
शुभ वर्षा घर आँगना ,
भरे गंध अत्यंत ।।
रोगों का कर नाश है ,
हर्षित हृदयअपार ।
भारत- भू- तुलसी मिलीं
आशिष पा आद्यंत ।।2।।

धरम करम पूरा न हो ,
तुलसी दल बिन व्यर्थ।
संस्कृति की पहचान ये ,
विष्णु भोग का अर्थ ।।
माला तुलसी जपन से ,
भीतर भरता ज्ञान ।
मंत्र , क्रिया सब शुध्द हो ,
होता नहीं अनर्थ ।।3।।

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
वाराणसी ,©®

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 38 Views
You may also like:
जब पंखुड़ी गिरने लगे,
Pradyumna
मनवा नाचन लागे
मनोज कर्ण
शिशिर का स्पर्श / (ठंड का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
कुछ बातें जो अनकही हैं...
अमित कुमार
■ एक गुज़ारिश
*Author प्रणय प्रभात*
सौ बात की एक
Dr.sima
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
प्रश्न चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
रानू रानाघाट की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️शहीदों को नमन
'अशांत' शेखर
जो तुम समझे ❤️
Rohit yadav
" दिव्य आलोक "
DrLakshman Jha Parimal
मेहनत का फल ।
Nishant prakhar
कोई मसअला नहीं
Dr fauzia Naseem shad
इतना मत चाहो
सूर्यकांत द्विवेदी
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
जन्मदिन कन्हैया का
Jayanti Prasad Sharma
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
लाड़ली दर पे आया तो फिर आ गया
Mahesh Tiwari 'Ayen'
कोई रोक नही सकता
Anamika Singh
'कभी तो'
Godambari Negi
महाकवि भवप्रीताक सुर सरदार नूनबेटनी बाबू
श्रीहर्ष आचार्य
मत पूछअ
Shekhar Chandra Mitra
स्मृति : गीतकार श्री किशन सरोज
Ravi Prakash
बेदम हुए है हम।
Taj Mohammad
आजमाते रहिए
shabina. Naaz
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
Loading...