Jan 13, 2022 · 1 min read

नफरत की राजनीति…

नफरत की राजनीति…
°~~°~~°~~
एक प्रश्न आया मन में
नफरत की राजनीति
कहाँ से और कब से
शुरू हुई होगी
इस वतन में…

ये धरा गगन तो
देवों की और
ऋषियों की
त्याग तप पावन भुमि थी
पूरे चमन में…

उत्तर ढूंढा मैं
गलियों और गलियारों में
वेदों और पुराणों में
सारे ग्रन्थों और
इतिहास के हरेक पन्नों में…

खोजते-खोजते
निगाहें टिक गई
उस पृष्ठ पर
एक ऐसे शहंशाह के
काले अतीत में…

उस बंदे ने
अपने बुढ़े पिता को ही
कैद कर डाला था
जीवन के आखिरी सात सालों तक
एक कारागार में..

राजसत्ता चाहिए थी
इसलिए सगे भाइयों को भी
मार डाला था वो
युद्ध में उलझाकर
जिंदगी के सफर में…

उत्तर ये मिला हमको,
उनसे ज्यादा नफरती
और सत्ता स्वार्थी
कहाँ मिलेगा
इस धरती और गगन में…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १३ /०१ / २०२२
पौष, शुक्ल पक्ष,एकादशी
२०७८, विक्रम सम्वत,गुरुवार
मोबाइल न. – 8757227201

8 Likes · 6 Comments · 522 Views
You may also like:
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H.
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
मेरे पापा!
Anamika Singh
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Angad tiwari
Angad Tiwari
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
वतन से यारी....
Dr. Alpa H.
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
Loading...