Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 21, 2018 · 2 min read

नन्हें फूलों की नादानियाँ

गुलशन को आग के हवाले करके खुश हो जाते हैं,
नन्हें फूलों की नादानियों पर मद-मस्त हो जाते हैं I

फूलों की नगरी में क्यों एक खामोसी छाई हुई ?
नन्हें फूलों के ऊपर एक धुंध सी क्यों छाई हुई ?
तूफ़ान की आहट से पत्तियां क्यों सकपकाई हुई ?
खौफ-डर से बगिया की कलियाँ क्यों थर्राई हुई ?

गुलशन को आग के हवाले करके खुश हो जाते हैं,
नन्हें फूलों की नादानियों पर मद-मस्त हो जाते हैं I

“ फूलों की नगरी ” में काँटों का कारोबार बेइंतहा चमकने लगा ,
प्यारे गुलशन में “नन्हीं कलियों ”को तोड़ने का काम बढ़ने लगा,
नफरत की चौखट पर ” इंसानियत ” का जनाजा निकलने लगा,
“नेक बन्दा” फूलों की सलामती की दुआ मालिक से करने लगा I

गुलशन को आग के हवाले करके खुश हो जाते हैं,
नन्हें फूलों की नादानियों पर मद-मस्त हो जाते हैं I

न ठुकराओं फूलों को जिनसे महकता गुलशन सारा,
जिनके पूर्वजो ने “खून”से सींचा यह गुलशन हमारा ,
अगर छोड़ गए “ गुलशन ” को न लौटेंगे कभी दुबारा,
दौलत के खेल में अकेला रह जायेगा गुलशन बेचारा I

गुलशन को आग के हवाले करके खुश हो जाते हैं,
नन्हें फूलों की नादानियों पर मद-मस्त हो जाते हैं I

प्यार के बदले हमने “नफरत का पौधा” रोपना शुरू कर दिया ,
दी गई “श्वांस”, के बदले उसको बाँटने का काम शुरू कर दिया,
“ हम एक हैं ” का नारा देकर उसे तोड़ने का इंतजाम कर लिया,
“राज” ने रूख देखकर “कलम” को पेन कहना शुरू कर दिया,

गुलशन को आग के हवाले करके खुश हो जाते हैं,
फूलों को नस्लों में बाँटकर माला की बात बताते हैं,

******
[ उपरोक्त कविता मेरे वतन को समर्पित है जिसके बच्चों के लिए मेरा जीवन कुर्बान है I ]

देशराज “राज”

3 Likes · 2 Comments · 450 Views
You may also like:
🌺🌺मूले वयं परमात्मनः अंशः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अगर प्यार करते हो मुझको
Ram Krishan Rastogi
“ पुराने नये सौगात “
DrLakshman Jha Parimal
अपने घर से हार गया
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️कोई मसिहाँ चाहिए..✍️
'अशांत' शेखर
किसी को भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
सजा मिली है।
Taj Mohammad
टूटता तारा
Anamika Singh
चिता की अग्नि ने।
Taj Mohammad
जीवन की तलाश
Taran Singh Verma
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम बहुत खूबसूरत हो
Anamika Singh
भगवान सा इंसान को दिल में सजा के देख।
सत्य कुमार प्रेमी
अनाथ
Kavita Chouhan
तेरी रहबरी जहां में अच्छी लगे।
Taj Mohammad
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
याद बीते दिनों की - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️माय...!✍️
'अशांत' शेखर
मेरे पापा
Anamika Singh
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
हर लम्हा।
Taj Mohammad
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
इंसान
Annu Gurjar
ऐ वतन!
Anamika Singh
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
Loading...