Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नदी कौशिकी

कौशिकी या कोसी या कोशी बिहार की शोक नदी है, यह सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, कटिहार, पूर्णिया, अररिया में प्रवाहित है, किन्तु किशनगंज और खगड़िया क्षेत्र “कोशी” प्रवाहित क्षेत्र नहीं है, अपितु छाड़ित क्षेत्र है, जो बाढ़ से आप्लावित ‘जल’ विसरण लिए है। एवरेस्ट की चढ़ाई के लिए प्रस्थानित रास्ते में कोसी की चार सहायक नदियाँ मिलती हैं।

तिब्बत की सीमा से लगे नामचे बाज़ार कोसी के पहाड़ी रास्ते का पर्यटन के हिसाब से सबसे आकर्षक स्थान है। अरुण, तमोर, लिखु, दूधकोशी, तामाकोशी, सुनकोशी, इन्द्रावती इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ हैं। नेपाल में यह कंचनजंघा के पश्चिम में पड़ती है। नेपाल के हरकपुर में कोसी की दो सहायक नदियाँ दूधकोसी तथा सनकोसी मिलती हैं। सनकोसी, अरुण, प्रज्ज्वल उपनदी “तमर” नदियों के साथ मिलकर त्रिवेणी नहीं, अपितु चौवेणी कहलाती है। इसके बाद नदी को सप्तकोशी कहा जाता है। वराहक्षेत्र में यह तराई क्षेत्र में प्रवेश करती है और इसके बाद से इसे कोशी या कोसी कहा जाता है। इसकी सहायक नदियाँ एवरेस्ट के चारों ओर से आकर मिलती हैं और यह विश्व के ऊँचाई पर स्थित ग्लेशियरों या हिमनदों के जल लेती हैं।

त्रिवेणी के पास नदी के वेग से एक खड्ड बनाती है, जो कोई 10 किलोमीटर लम्बी है। भीमनगर के निकट यह भारतीय सीमा में दाख़िल होती है। इसके बाद दक्षिण की ओर 260 किमी चलकर कटिहार जिलान्तर्गत कुरसेला और काढ़ागोला की संयुक्त क्षेत्र गंगा में मिल जाती है, किंतु यह सच नहीं है। सच यह है कि कोसी के प्रवाह का अंत इसी ज़िले के मनिहारी अंचल के बाघमारा में आकर होती है। जो कि बिहार में है।

2 Likes · 217 Views
You may also like:
अगनित उरग..
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
“ कॉल ड्यूटी ”
DrLakshman Jha Parimal
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
समय की गर्दिशें चेहरा बिगाड़ देती हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️आझादी की किंमत✍️
'अशांत' शेखर
माँ
Prabhat Prajapati
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
मकान जला है।
Taj Mohammad
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
ये जिन्दगी एक तराना है।
Taj Mohammad
वक्त की उलझनें
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जितना भी पाया है।
Taj Mohammad
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
नव गीत
Sushila Joshi
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
कहता है ये दिल मेरा,
Vaishnavi Gupta
हम भाई भाई थे
Anamika Singh
सुख की कामना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr.Alpa Amin
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
✍️इंतज़ार के पल✍️
'अशांत' शेखर
Loading...