Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)

तपे,
घाट के पाट,
नदी की
पपड़ी उखड़ी ।।

कि उठती
गरम-गरम
अब पीर ,
नदी के
तप्त हृदय से ।
कि रीता
रस-रस
मीठा नीर ,
रेत पर
लिखे प्रलय से ।।

थमा,
वाव का ताव,
वदी की
भाँवर मचली ।।

कि उठती
उद्गम से
जो हूक,
शोक के
गीत सुनाती ।
हुई जो
पहले हम-
से चूक,
दृश्य वो
आज दिखाती ।

लिए
ठूँठ का बोझ,
सदी की
काँवर पसरी ।

तपे
घाट के पाट
नदी की
पपड़ी उखड़ी ।
000
—– ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

5 Likes · 6 Comments · 184 Views
You may also like:
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
*तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
इश्क की खुशबू में ।
Taj Mohammad
किताब के पन्नों पर।
Taj Mohammad
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
किसी के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इश्क है यही।
Taj Mohammad
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
रिश्तो मे गलतफ़हमी
Anamika Singh
दर्द से खुद को
Dr fauzia Naseem shad
मजदूर- ए- औरत
AMRESH KUMAR VERMA
जिन्दगी और चाहत
Anamika Singh
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
✍️शर्तो के गुलदस्ते✍️
'अशांत' शेखर
Loading...