Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-214💐

नज़ीर मत दो इश्क़ तरन्नुम है मिरा तिरा,
कशिश दिल से दिल में है उसे जानो।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
89 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
ञ माने कुछ नहीं
ञ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
चुपके से तेरे कान में
चुपके से तेरे कान में
Dr fauzia Naseem shad
आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की..
आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की..
Rashmi Sanjay
लड़खाएंगे कदम
लड़खाएंगे कदम
Amit Pandey
बेवफाई मुझसे करके तुम
बेवफाई मुझसे करके तुम
gurudeenverma198
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
Vishal babu (vishu)
*मुक्तक*
*मुक्तक*
LOVE KUMAR 'PRANAY'
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
Ms.Ankit Halke jha
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
■ हाथ मे झाड़ू : गर्दभ वाहन...
■ हाथ मे झाड़ू : गर्दभ वाहन...
*Author प्रणय प्रभात*
रूठा बैठा था मिला, मोटा ताजा आम (कुंडलिया)
रूठा बैठा था मिला, मोटा ताजा आम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
💐प्रेम कौतुक-532💐
💐प्रेम कौतुक-532💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लतिका
लतिका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Saso ke dayre khuch is kadar simat kr rah gye
Saso ke dayre khuch is kadar simat kr rah gye
Sakshi Tripathi
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चंदा की डोली उठी
चंदा की डोली उठी
Shekhar Chandra Mitra
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
शिव प्रताप लोधी
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
जनगणना मे मैथिली / Maithili in Population Census / जय मैथिली
जनगणना मे मैथिली / Maithili in Population Census / जय मैथिली
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
फितरत
फितरत
umesh mehra
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
2287.
2287.
Dr.Khedu Bharti
गांव
गांव
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
रातों पर अब कोई शिकवा नहीं है
रातों पर अब कोई शिकवा नहीं है
कवि दीपक बवेजा
Loading...