Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#23 Trending Author
Jun 3, 2022 · 1 min read

नजर तो मुझको यही आ रहा है

अपनी कलम से जिसको कर रहा हूँ बयाँ,
बदलती जिसकी प्रकृति के स्वभाव को,
एक ही वर्ष में बार-बार उसके मौसम को,
इसका कारण जैसा कि मैं मानता हूँ ,
नजर तो मुझको यही आ रहा है।

बहार और बयार जिसकी जमीं पर,
जिनसे रहा है वास्ता मेरा भी कभी,
मैंने जब जोड़ा था उससे रिश्ता,
बहार आने की मैंने की थी उम्मीद,
लेकिन उसने भर दी तड़प मेरे जीवन में,
इसकी वजह जैसा कि मैं समझता हूँ ,
नजर तो मुझको यही आ रही है।

लगाई थी उसने कीमत,
मेरी सादगी-मेरी बन्दगी की,
एक पल में ही बदल गई थी,
उसकी सूरत और प्रकृति,
एक ही क्षण में हो गया था,
तब मौसम निराशाजनक,
हो सकती है इसकी वजह वह भी,
नजर तो मुझको यही आ रही है।

सहनी पड़ती है विदाई भी,
आता है तूफान और पतझड़ भी,
होते हैं कभी गर्दिश में भी सितारें,
होती है अमावस्या भी जीवन में,
और आती है बाढ़ ऑंसुओं की भी,
मगर इसका कारण यही होगा,
नजर तो मुझको यही आ रहा है।

लेकिन समय नहीं रहता कभी एक सा,
मौसम नहीं रहता कभी एक समान,
नसीब कब बदल जाये जीवन में,
कुछ कहा नहीं जा सकता इस बारे में,
होती है कभी ऐसी भी बरसात,
कि लहलहा उठते हैं खेत जमीं पर,
और गुलजार हो जाता है चमन,
सावन भी आयेगा फिर से कभी,
नजर तो मुझको यही आ रहा है।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

2 Likes · 1 Comment · 162 Views
You may also like:
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
आपकी स्वतन्त्रता
Dr fauzia Naseem shad
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
वो प्यार कैसा
Nitu Sah
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
साथ तुम्हारा
Rashmi Sanjay
“ कॉल ड्यूटी ”
DrLakshman Jha Parimal
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
पत्र की स्मृति में
Rashmi Sanjay
तिरंगा
Pakhi Jain
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
जवाब दो
shabina. Naaz
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
💐💐सुषुप्तयां 'मैं' इत्यस्य भासः न भवति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
कारवाँ:श्री दयानंद गुप्त समग्र
Ravi Prakash
✍️चीरफाड़✍️
'अशांत' शेखर
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
मायके की धूप रे
Rashmi Sanjay
सेक्लुरिजम का पाठ
Anamika Singh
इच्छा
Anamika Singh
आईना ज़िंदगी नहीं रहती
Dr fauzia Naseem shad
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
Loading...