Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नजर आ रहा है

जिधर देखो उधर आज अभिमान ही नजर आ रहा है।
इंसानों के अंदर बैठा हैवान ही नजर आ रहा है।

संवेदनशीलता मरती जा रही है आज के इस दौर में,
इंसानियत का दुश्मन खुद इंसान ही नजर आ रहा है।

देखो स्वार्थ से परिपूर्ण हो गए हैं सारे रिश्ते नाते आज,
अपना होकर भी हर कोई अनजान ही नजर आ रहा है।

पैसे के लेन देन बिना होता नहीं काम सरकारी दफ्तरों में,
कुर्सी पर बैठा हर एक अफसर बेईमान ही नजर आ रहा है।

गरीब को दुत्कार कर अमीरों के तलवे चाटते हैं लोग,
भगवान के जैसा पूजता आज धनवान ही नजर आ रहा है।

सच बोलने, लिखने और कहने की कीमत बहुत भारी है,
सच्चा इंसान सुलक्षणा चंद रोज का मेहमान ही नजर आ रहा है।

डॉ सुलक्षणा अहलावत

172 Views
You may also like:
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
कैसा मोजिजा है।
Taj Mohammad
फूल
Alok Saxena
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
अल्फाज़ हैं शिफा से।
Taj Mohammad
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
विन्यास
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा -कैवल्य
Rashmi Sanjay
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
✍️कलम और चमच✍️
"अशांत" शेखर
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
सास-बहू
Rashmi Sanjay
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
✍️स्त्रोत✍️
"अशांत" शेखर
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
✍️निज़ाम✍️
"अशांत" शेखर
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...