Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 27, 2016 · 1 min read

नजरें मिलाऊं कि नजरें चुराऊं।

गजल

जहाँ को भुला दूं मैं खुद को भुलाऊँ।
मगर है न मुमकिन तुम्हे भूल जाऊँ।।

सभी जख्म रिसने लगे हैं मेरे अब।
कलेजे को किससे कहां मै सिलाऊं।।

बुरे वक्त में साथ छोड़ा सभी ने।
बचा कौन है अब जिसे आजमाऊँ।।

किसी भी डगर से सनम आ जरा तू।
मैं तेरे लिये चांद तारे बिछाऊँ।।

अगर साथ तेरा मुझे मिल गया तो।
मैं गजलों की महफिल हमेशा सजाऊँ।।

मेरे सामने है सनम आज मेरा।
में नजरें चुराऊँ कि नजरें मिलाऊँ।।

नशा देशभक्ति का मुझ पर चढ़ा है।
तिरंगा उठा हाथ जयहिंद गाऊँ।।

गरीबी ने डेरा मेरे घर है डाला।
तड़पते हैं बच्चे उन्हे क्या खिलाऊँ।।

अगर हमसफर तू मेरा बन गया तो।
जमाने की खुशियाँ तुझी पर लुटाऊँ।।

मिले जन्म जब भी यही आरजू है।
वतन के लिये सर हमेशा कटाऊँ।।

अँधेरा बढे़ गर यहाँ नफरतों का।
मुहब्बत का “दीप”क सदा मैं जलाऊँ।।

प्रदीप कुमार

1 Comment · 209 Views
You may also like:
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
If we could be together again...
Abhineet Mittal
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
Loading...