Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

नए वर्ष की नई उमंग

2015 के नव वर्ष की शुभ बेला पर लिखी एक कविता

नए वर्ष की नई उमंग में
भर लो मन को नई तरंग में
होत संयोग जब उमंग-तरंग का
अानंद से सबका मन भरता
मन का साज मुखरित हो उठता
सुन मधुर विकंपन मधुमय मन का
थिरकन उठते पैर धरा पर
सुन संगीत अानंद लहरों का!

Language: Hindi
Tag: कविता
290 Views
You may also like:
जिन्दगी
लक्ष्मी सिंह
*पत्नी: कुछ दोहे*
Ravi Prakash
नन्हा और अतीत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
क्यो अश्क बहा रहे हो
Anamika Singh
एक चुनाव हमने भी लड़ा था
Suryakant Chaturvedi
पिता
Surjeet Kumar
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
शव
Sushil chauhan
रात में सो मत देरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
देव प्रबोधिनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत
शेख़ जाफ़र खान
कायर हो गई भावना
सूर्यकांत द्विवेदी
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
स्पंदित अरदास!
Rashmi Sanjay
"नर बेचारा"
Dr Meenu Poonia
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
पूर्व जन्म के सपने
RAKESH RAKESH
गीता के स्वर (1) कशमकश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
व्यवस्था का शिकार
Shekhar Chandra Mitra
✍️ताला और चाबी✍️
'अशांत' शेखर
निःशब्दता हीं, जीवन का सार होता है।
Manisha Manjari
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
"REAL LOVE"
Dushyant Kumar
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
दिशाहीन
Shyam Sundar Subramanian
!! लक्ष्य की उड़ान !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
हमारी आंखों से
Dr fauzia Naseem shad
हुई कान्हा से प्रीत, मेरे ह्रदय को।
Taj Mohammad
Loading...