Feb 27, 2022 · 2 min read

नई तकदीर

नई तकदीर
~~°~~°~~°
चलो फिर से इस देश की ,
नई तकदीर हम लिखते हैं ।
देखा था स्वप्नें कभी, जो उन वीरपुत्रों ने ,
हो हर हाल में, इस देश की तस्वीरें स्वर्णिम ।
संजोया था कभी , लहु देकर शहीदों ने ,
रहे सदा अखंडित भारत के, सपने अप्रतिम ।
चलो फिर से उन सपनों की, तसदीक हम करते हैं…

चलो फिर से इस देश की ,
नई तकदीर हम लिखते हैं…

याद करें हम शहीदों के ,शहादत की उन कहानी को ,
अर्पित कर दिया प्राणों को, किस तरह देकर चिंगारी वो ।
चीखते रह गए, हर बदहवास चेहरे वो ,
कभी रचते थे इस देश में, षड़यंत्र गहरे जो ।
मिटाकर, दुश्मनों की हर साजिश को शहीदों ने ,
कभी मिटने नहीं दिया, मुफलिसी में अपने इरादों को।
चलो , उन नेंक इरादों की राह चलकर ,
फिर से कुछ ,नई लकीर हम खिंचते है…

चलो फिर से इस देश की ,
नई तकदीर हम लिखते हैं…

बांटने की तो, हुकूमत की आदतें है ही पुरानी ,
पर अब हम, न बटेंगे कभी ।
बस इतनी सी तो है, कसमें बस खानी।
सियासत के भुजंगो से, बचकर रहना है सदा हमको ,
उनके बदनीयती को जो ,अब हमें है खाक मे मिलानी ।
यही ख्वाहिशें फक़त, दिल में लिए ,
वतन पे कुर्बान, हम खुद को करते हैं…

चलो फिर से इस देश की ,
नई तकदीर हम लिखते हैं…

छोड़ दो अश्कों को अब, मुफ्त में यूंँ ही लुटाना ,
खबर हो कमबख्त दिल को ,आँसू है कब-कब बहाना ।
चैन से लिपटे रहे ये अभी,इन खुश्क आँखों में ।
सैलाब की तब जरूरत पड़ेगी,
जब स्वप्न उज्जवल दीप प्रज्वल, सुरमयी धरती सजेगी।
दानवता का नाश होगा, हर्षित मन आकाश होगा।
अरमान यही दिल में लिए ,
हम ख्वाब फिर से बुनते हैं…

चलो फिर से इस देश की ,
नई तकदीर हम लिखते हैं…

देख लो इस जहाँ का, सूरत-ए-हाल हकीकत में ,
सिमटती गई हिन्द की सीमाएं , तब से ही निरन्तर ,
बढ़ चला था, जब से धरा पर,
फरेबियों का साम्राज्य गिन-गिनकर ।
मिट जाएगी ये जहाँ , किसी दिन यहाँ,
धरा से यदि, आतंक का मंज़र नहीं थमता।
कसम खाते हैं पूरे मन से,अब हम मिलजुलकर,
आतंक के नापाक इरादों को, मिटाकर फेंक देंगे हम ।
ये वतन हमारा है,खुलेआम जग को, अभी पैगाम देते हैं…

चलो फिर से इस देश की ,
नई तकदीर हम लिखते हैं…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २७ /०२/ २०२२
फाल्गुन ,कृष्णपक्ष ,एकादशी ,रविवार ।
विक्रम संवत २०७८
मोबाइल न. – 8757227201

4 Likes · 4 Comments · 507 Views
You may also like:
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H.
आजमाइशें।
Taj Mohammad
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
नादानी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
पिता
Kanchan Khanna
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...