Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 18, 2022 · 1 min read

नई जिंदगानी

भाग दौड़ की इस हयात में
कभी न अख्तियार करे हम
जीने के लिए त्रुटिपूर्ण प्रचर
अक्सर आसान पंथ ही हमें
करती नष्ट हयात स्वजन की ।

दो लम्हें की खुशी के लिए
कभी न करना चाहिए हमें
अपने इस हयात को ध्वस्त
आज उद्यम कर के हम सब
अग्र हयात में रह सकते-भला ।

ये दो दिन की जिंदगी को
हर्षोल्लास से बिताने को
करते श्रम, उद्यम, परिश्रम
प्रतिस्पर्धा के बाद ही हमें
मिलती एक नई जिंदगानी ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

2 Likes · 250 Views
You may also like:
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
क्यो अश्क बहा रहे हो
Anamika Singh
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
तुम बहुत खूबसूरत हो
Anamika Singh
यादें
Anamika Singh
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
कुरान की आयत।
Taj Mohammad
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
दरिया
Anamika Singh
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोहब्बत-ए-यज़्दाँ ( ईश्वर - प्रेम )
Shyam Sundar Subramanian
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
"ईद"
Lohit Tamta
रास्ता
Anamika Singh
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
“हिमांचल दर्शन “
DrLakshman Jha Parimal
गुरू
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
आज के रिश्ते!
Anamika Singh
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
Loading...