Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2022 · 1 min read

ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा

ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा,

नंबर सबका आयेगा, बिन इंतजार,
ये पैसा अमीरी का कर रहा सफर,
पंद्रह लाख खाते में,जायेंगे अखर,
सुन अभी रुक, इतना मत बिफर .

बात न बिकने देने की करते जायेगा,
मील के पत्थर तक को बेचा जायेगा.
गर्व था हमें भारतीय होने पर,
भारतीय नामित वंश खत्म हो जायेगा,

कोख तक भी चढ़ गई किराये पर.
तस्कर नजर लड़कियों पर रखेगा,
नारा होगा, लड़की बिक्री बंद करो.
जब तलक होश महेन्द्र को आयेगा.
दुर्दशा हो जायेगी जन मानस की,
अग्निवीर अग्निपथ के सांचे में ढल आयेगा,

बहुत तबाही जन-मानस पर ढहायेगा,
रक्षा देश की नहीं, खैरियत अपनी मांगेगा
जुल्मी जुल्म ढहायेगा, आज मकान पर
कल ध्यान रोटी कपडे स्वच्छंद छवि पर.

उसके बाद जो हिंदुत्व हिंदुत्व चिल्ला रहे
उनसे हुक्का चील्म भरवाया जायेगा.
ना तरस जाये रोटी पानी और वस्त्र को
ठिकरा विपक्ष के सिर पर फोडे जायेगा.
.
नंबर सबका आयेगा,परचम लहरायेगा,
बचेगा सिर्फ़ तथाकथित हिंदुत्व वादी,
हिंदुत्व सार समझ प्यारे वरन् पछतायेगा
जस् रचा गया नरक स्वर्ग पाप पुण्य

तस् अभेद्य किले को कैसे भेद पायेगा,
मर्जी के श्वास दिये जायेंगे पंप लगा,
लाख कर कोशिश,इच्छा मृत्यु मांगेगा,
प्रभु की मर्जी बता,तड़फाया जायेगा.

©दूरदर्शिता हंस महेन्द्र सिंह

1 Like · 1 Comment · 82 Views
You may also like:
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
हम मुकद्दर पर
Dr fauzia Naseem shad
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
Loading...