#1 Trending Author
Jan 17, 2022 · 1 min read

धूप की हड़ताल

धूप की हड़ताल
************
चल रही है आजकल धूप की हड़ताल,
पड़ रहा है आजकल इसका भी अकाल।
आजकल इसके दर्शन भी बड़े दुर्लभ है,
बाजार में किसी कीमत पर न उपलब्ध है।।

मजदूरों को तो हमने हड़ताल करते देखा,
जाड़ों में इसको हमने हड़ताल करते देखा।
गर्मियों में ये हड़ताल क्यो नही करती ?
जाड़ों में ये दुबकी डुबकी क्यो फिरती ?

कोई वैज्ञानिक इसका कोई उपाय निकाले,
गर्मी में इसको किसी बंद डिब्बे में है डाले।
जरूरत हो जब इसकी जाड़े में बाहर निकाले,
लोगो की इस समस्या कोई तो हल निकाले।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

2 Likes · 2 Comments · 169 Views
You may also like:
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
ढह गया …
Rekha Drolia
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
कारस्तानी
Alok Saxena
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
Buddha Prakash
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
परेशां हूं बहुत।
Taj Mohammad
किताब।
Amber Srivastava
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
मोहब्बत में।
Taj Mohammad
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H.
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
हसद
Alok Saxena
Loading...