Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 7, 2016 · 1 min read

धुंध की चादर मे शहर सिसक रहा है

न जाने क्यू दिल मे कुछ हलचल हो रही थी
द्वार पे जाकर देखा तो इक पेड़ पे बनी थी

नश्तर लिए हाथो मे पत्ते कतर रहे थे
जी जान से जुटे थे इक पल न ठहर रहे थे

मुंडित किया सिरे से अब ठूंठ सा खड़ा था
पत्ते बिना वो पेड़ अब गिरने को हो चला था

आलय दिया धरा ने
पुष्पित किया पवन ने
बूंदों ने पल्लवित किया था …..
रवि के ताप से जगमग हो चला था …..
पर !!!

मारी कुल्हाड़ी ऐसी बस ढेर हो चला था
टुकड़े किए हजारो ढो के ले चला था

अजब सा मंजर था ये क्या हो रहा था
जीते जी उसने उपकार ही किया था

कुछ नही तो प्राण वायु ही दे रहा था
मर कर भी वो कुछ तो दे रहा है

घर बार को किवाड़ और बिस्तर दे रहा है
फिर भी इसॉ उसके प्राण ले रहा है

अन्जान हो खुद को मलिन कर रहा है
बढ़ते प्रदूषण मे खुद ही सिमट रहा है
स्वयं को प्रक्रति दूर कर रहा है
आपदा को स्वयं ही न्योता दे रहा है
सच….
धुंध की चादर मे शहर सिसक रहा है
धुंध की चादर मे शहर सिसक रहा है

204 Views
You may also like:
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
✍️✍️रंग✍️✍️
"अशांत" शेखर
जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
चिड़ियाँ
Anamika Singh
आजमाइशें।
Taj Mohammad
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr. Alpa H. Amin
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
मौत।
Taj Mohammad
ताला-चाबी
Buddha Prakash
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H. Amin
फरिश्ता से
Dr.sima
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
Loading...