Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

धार में ही मिला किनारा

डूबा हूँ आँसुओं में, ले दर्द का सहारा
ये कम क्या मुझ पर अहसान यह तुम्हारा
वे और लोग होंगे व्यथित, लहरों के संग भटके
मुझको तो धार में ही,हरदम मिला किनारा |
उजड़े चमन की कलियों ने, मुस्कुरा के पुछा-
बता दो जरा क्या हाल है तुम्हारा
जब मिले क्षण तोड़ना कायरों की उड़ान,
फूलों ने सुगंध फैला, कैसा सुंदर किया ईशारा |
निस्सार संसार के तुच्छ लोगों ने,
कैसा लूट अपनों को हरदम बिसारा
मगर कहाँ रह सके जो थे ऐंठते वे,
काल उनके आँगन में आकर गंभीर रुदन पसारा |
जो वीर होंगे सदा व्रती दुःखियों हित,
महकाते रहेंगे उजड़े चमन हर घाटी को सारा
खिलाते रहना फूलों जैसा सुगंधित ‘आलोक’
पुण्य का है काम यह तुम्हारा |

जय हिन्द !

©
कवि आलोक पाण्डेय

2 Likes · 1 Comment · 132 Views
You may also like:
माँ
आकाश महेशपुरी
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
अनामिका के विचार
Anamika Singh
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
आओ तुम
sangeeta beniwal
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
लक्ष्मी सिंह
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...