Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 3, 2017 · 1 min read

धारण कर सत् कोयल के गुण

जागा अधिवक्ता पतला सा
त्यागे तन के कीमती वस्त्र
ले हाथ छड़ी जिस ओर बढा
पीछे-पीछे पग थे सहस्त्र
अनुपम- अतुलित बल का उद्भव
आज अहिंसा में है देखा
यह भ्रम या धूल भरी आंधी
या सपना कोई अनदेखा
बैरी बोले भागो-भागो
देवत्व हमें ललकार रहा
प्रेम-फाँस के प्रबल बार से
राक्षसी वृत्ति संहार रहा
घर गया शिकारी बेबस हो
बन गया महात्मा राष्ट्रपिता
ईश्वरत्व रवि प्रखर हो गया
बद् कृत्यों की जल गई चिता
“नायक बृजेश” तुम देवपुरुष
वैचारिक दर्शनरूप सगुण
निश्चय होगी शांति, स्वयं में
धारण कर सत् कोयल के गुण
…………………………………………………….

●उक्त रचना को “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।

● पूरी रचना पढने के लिए “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण का अवलोकन करें।

●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
03-05-2017

507 Views
You may also like:
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
Nurse An Angel
Buddha Prakash
सुरज दादा
Anamika Singh
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
✍️इरादे हो तूफाँ के✍️
'अशांत' शेखर
*आओ बात करें चंदा की (मुक्तक)*
Ravi Prakash
परिणय
मनोज कर्ण
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
यथार्था,,, दर्पणता,,, सरलता।
Taj Mohammad
महबूब
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
“ WHAT YOUR PARENTS THINK ABOUT YOU ? “
DrLakshman Jha Parimal
✍️वो "डर" है।✍️
'अशांत' शेखर
योग करो।
Vijaykumar Gundal
तेरी सलामती।
Taj Mohammad
विष्णुपद छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सूरज की पहली किरण
DESH RAJ
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विश्वासघात
Seema 'Tu haina'
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
महबूब ए इश्क।
Taj Mohammad
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
तू बोल तो जानूं
Harshvardhan "आवारा"
“ मिलि -जुलि केँ दूनू काज करू ”
DrLakshman Jha Parimal
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...