Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 17, 2016 · 1 min read

धाँगा (लघुकथा)


राखी का पर्व आते ही कनिका में अजीब सी ललक एवं कौतूहल फैल जाता था । उसे वो लम्हें याद जाते थे जब उसने मुँह बोले भा सुदीप की कलाई में रक्षासूत्र बाँधा था । सुदीप के रक्षासूत्र बाँधते कई दशक बीत गये थे । सुदीप जब विदेश में रहता तब कई बार कनिका की आर्थिक सहायता कर चुका था आखिर कनिका मुँह बोली बहिन थी आज राखी के पर्व पर कनिका का हृदय भारी हो गया बरबस नजरें आतुर हो उठी ।

बचपन की तूँ – तूंँ , मैं -मैं साथ – साथ खेलना , हठपूर्ण शैतानी से सुदीप को मारना , उसे बरबस ही याद आ गया । सुुदीप भी कनिका का हौसलाँ बढ़ाऐ रखता था , लेकिन कनिका के पति को शक होने लगा इसलिये समय के अन्तराल पर भाई – बहन के इस पावन रिश्ते को शक ने धूमिल कर दिया था । मर्ज का इलाज है पर शक का नहीं । कनिका के पति की शक भरी नजरों नह हमेशा के लिए खत्म कर दिया था
जिसे तोड़ने की कसक कनिका के अन्तस् में आज भी है धागा जो कनिका के पति ने तोड़ा फिर न जुड सका । आज भी उसे तोड़ने का दर्द हृदय में उठता है तो पति के साथ रिश्ते को स्वीकार कर भाई के रिश्ते को दफन करना पड़ता है ।

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 288 Views
You may also like:
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr. Alpa H. Amin
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
यही है मेरा ख्वाब मेरी मंजिल
gurudeenverma198
" सच का दिया "
DESH RAJ
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
फूलों का नया शौक पाला है।
Taj Mohammad
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
उस दिन
Alok Saxena
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
Little baby !
Buddha Prakash
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Mamta Rani
Loading...