Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2022 · 1 min read

धर्म

कष्ठ होते भी, धर्म में जीओ।
धर्म का ही अंतिम विजय है।

रावण भी बडा भक्त था।
मगर अधर्म मार्ग को चुना।

वाली भी वीर था।
मगर अधर्म मार्ग को चुना।

विभीषण असुर के भाई था।
फिर भी धर्म मार्ग को चुना।

कृष्ण भी अर्जुन को
धर्म बोध किया।
अर्जुन भी वीर था।

वृक्ष भी फूलता- फलता है।
अपना धर्म निभाता है।

सूर्य भी सुप्रभात से
अपना धर्म निभाता है।

वर्ष भी समय पर आकर
अपना धर्म निभाता है।

पकृति भी अपना धर्म निभाता है।
नही तो प्रलय संभव है।

पशु – पक्षी भी अपना धर्म निभाता है।
नही तो पृथ्वी में कोई नही बचता है।

हे मानव, आप भी
अपना धर्म निभावो।

धर्म मार्ग में जीने वाला
भगवान बनजाता है।

जि. विजय कुमार
हैदराबाद, तेलंगाना

163 Views
You may also like:
तीन किताबें
Buddha Prakash
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu haina'
✍️कालापिला✍️
'अशांत' शेखर
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
मुझे धोखेबाज न बनाना।
Anamika Singh
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
✍️वो मील का पत्थर....!
'अशांत' शेखर
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
हम भी इसका
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
शुभ मुहूर्त
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
दलित
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
अल्फाज़ ए ताज भाग-1
Taj Mohammad
✍️दो और दो पाँच✍️
'अशांत' शेखर
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
धरती की फरियाद
Anamika Singh
धुआं उठा है कही,लगी है आग तो कही
Ram Krishan Rastogi
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
मिटाने लगें हैं लोग
Mahendra Narayan
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
मोरे सैंया
DESH RAJ
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
Loading...