Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Dec 26, 2021 · 2 min read

धर्म बला है…?

धर्म बला है…?
°°°°^°°°°
कोई कहता, ये धर्म बला है,
कोई कहता, धर्म अफीम या शोला है।
पर सच्चाई बयां करती ये दूनियांँ ,
ये न तो बला है और न शोला है।
धर्म बदनाम हुआ, यूँ ही इस जग में,
जबसे इसमें किसी ने जहर घोला है…

देखा है कहीं ऐसा भी जग में,
मां – बाप, अम्मा या वालिद,
चाह्ता जो अधर्मी सुत हो,
धर्मपरायण नहीं हो जीवन में।
धर्म की खातिर जान गंवाते ,
धर्म सपूतों का वसंती चोला है।

धर्म बदनाम हुआ, यूँ ही इस जग में,
जबसे इसमें किसी ने जहर घोला है…

धर्म प्रतिष्ठित भारतभूमि ये तो,
सदियों से ही विश्वगुरु कहलाती।
बुद्ध का सत्य, महावीर का तप है,
श्रीराम का त्याग,श्रीकृष्ण लीला है।
धर्म सहिष्णु, धर्म करूणा है,
धर्म के बिना तो सबकुछ सूना है।

धर्म बदनाम हुआ, यूँ ही इस जग में,
जबसे इसमें किसी ने जहर घोला है…

धर्म को घृणा का औजार बनाकर,
सत्ता स्वार्थ का हथियार बनाकर,
रोपा बीज किसने है यहाँ पर।
भाई-भाई को खून कराकर,
बाप-श्वसुर को खंजर चुभोकर,
इतिहास पलटने से ही दिखता है।

धर्म बदनाम हुआ, यूँ ही इस जग में,
जबसे इसमें किसी ने जहर घोला है…

हमने तो किसी का न, दिल ही दुखाया,
औरों को भी गले ही लगाया,
लूटपाट न कभी आतंक मचाया।
एक-एक कर था, जो राज्य गंवाया,
अपने महल में ही पद्मिनी बनकर,
सतीत्वरक्षार्थ जौहर पट खोला है ।

धर्म बदनाम हुआ, यूँ ही इस जग में,
जबसे इसमें किसी ने जहर घोला है…

अपने हिंद का साम्राज्य देख लो ,
औरों का विस्तार देख लो।
नहीं धर्म का प्रलोभन देते,
धर्म का ढाल बन, साजिश न रचते।
अपने हक को ही, सब दिन से लड़ते,
काहे को फिर ये मुख खोला है।

धर्म बदनाम हुआ ,यूँ ही इस जग में,
जबसे इसमें किसी ने जहर घोला है…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २६ /१२ / २०२१
कृष्ण पक्ष , सप्तमी , रविवार
विक्रम संवत २०७८
मोबाइल न. – 8757227201

5 Likes · 8 Comments · 634 Views
You may also like:
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टूटता तारा
Anamika Singh
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H. Amin
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
सुंदर बाग़
DESH RAJ
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
उस दिन
Alok Saxena
पिता जीवन में ऐसा ही होता है।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
पिता
Santoshi devi
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...