Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 26, 2017 · 2 min read

धरोहर

रेशम ने बड़ी मेहनत से प्रोजेक्ट तैयार किया,कई दिनो की अथक मेहनत के फलस्वरूप बेहतरीन परिणाम निकल कर आया था, इंटरनेट का पेट खंगाल खंगाल कर जानकारियाँ एकत्रित कर कंप्यूटर पर करीने से जमा कर सेव कर दिया,अंगड़ाई ले कर थकान को शरीर से विलग किया और दादा जी की तरफ घूम कर बोली..
“देखा दादाजी आधुनिक ई-पुस्तकालय का कमाल,
आप भी कंप्यूटर पर पढ़ने की आदत डाल ही लो”
दादा जी का जवाब था कि बेटा पुस्तकों का अपना ही अस्तित्व है,इनका मेरा साथ बना रहने दो..
रेशम मुँह बना कर बोली कमरा भर रद्दी इकट्ठा कर रखीै है ,हुँह अब कौन समझाये?
तभी रमणीक पहुँच गया और उत्साह से भरी रेशम उसे अपना काम दिखाने चल पड़ी, देखना भाई मेरे इस काम के फलस्वरूप मेरी ही पदोन्नति होगी..
कि तभी कम्प्यूटर की हार्ड डिस्क क्रैश हो गई….
किये कराये पर पानी फिर गया..
रेशम कोअब साइबर कैफे जा कर दोबारा सारी मशक्कत करनी पड़ेगी,बैकअप भी तो नहीं रखा..
अचानक पूरे इलाके की बत्ती भी गुल हो गई., पता चला् ग्रिड में कोई खराबी आ गई है ,कम से कम दो दिन लगेंगे बिजली चालू होने में ।
रेशम के तो जैसे ऊपर ही बिजली गिर पड़ी…
समय रहते काम पूरा होना असम्भव जान पड़ता था..
एक दिन का समय तो है पर साधन?????
हाथ से लिख सकती हूँ पर नेट के बिना मैटर…
और तभी दादा जी का प्रस्ताव आया..
मैटर का समन्दर है न अपने पास..
खोलते हैं किताबों वाला कमरा…
और दादाजी ने चुहल की-
क्या रेशम … .मेरी वाली हार्ड डिस्क मोमबत्ती में भी
काम करती है।
है न धरोहर!!!

289 Views
You may also like:
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
पिता
Keshi Gupta
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
अधुरा सपना
Anamika Singh
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
प्यार
Anamika Singh
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
Loading...