Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 1, 2016 · 1 min read

धरती माँ

धरती धर ती कितना बोझा
नहीं कभी हमने ये सोचा

भेदभाव के बिना सभी को
पाला ज्यों घर की अम्माँ ने
किसको पालूं किसको छोडूं
कभी नहीं सोचा वसुधा ने

और एक हम, तू-तू मै-मै
ये तेरा ये मेरा करते
दूसरों की परवरिश क्या
अपने ही माँ बाप अखरते |

भौतिकता अब संबंधों को
किस पर क्या है इससे जोड़े
इज्जत की खानेवालों से
पास पड़ोसी भी मुंह मोड़ें |

वसुधा जैसा करें ह्रदय को
मिलजुल कर बांटें सम्मान
एक दूसरे का हित सोचें
विश्व शांति का रचें विधान |

1 Comment · 177 Views
You may also like:
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
एक प्रश्न
Aditya Prakash
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
शेर राजा
Buddha Prakash
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
आओ तुम
sangeeta beniwal
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
करते है धन्यवाद.....दिलसे
Dr. Alpa H. Amin
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पुस्तक समीक्षा -कैवल्य
Rashmi Sanjay
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
✍️ग़लतफ़हमी✍️
"अशांत" शेखर
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्द।
Taj Mohammad
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...