Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2022 · 1 min read

धरती की अंगड़ाई

“हरा रंग है हरी हमारी
धरती की अंगड़ाई”
इस प्रण से, इस रंग को हमने
अपने झंडे में डाला,
पर कितना सच में इस प्रण को
अपने जीवन में पाला।
मॉल बना, घर – द्वार सजा,
बाजारों का अंबार लगा,
एयरोड्राम, बंदरगाहों औ
रोड – रेलवे का जाल बिछा,
वन – उपवन का दोहन कर
धरती का चीर – हरण किया।
बंजर भूमि, सूखी नदियांँ,
ग्लोबल वार्मिंग का बढ़ा खतरा,
कब संभलोगे, ऐ मानव तुम
जब निर्जन हो जाए धरा,
प्रण कर लें हम मिलकर आज
पर्यावरण हो, हरा – भरा।
नित पेड़ लगाएंँ, अगल – बगल
बूढ़े पेड़ों की करें सेवा,
धीरे – धीरे वन क्षेत्र बढ़े,
टल जाए धरती की विपदा,
धरती लेगी अंगड़ाई फिर,
रह जाए झंडे का मान सदा।

मौलिक व स्वरचित
श्री रमण
बेगूसराय

Language: Hindi
7 Likes · 10 Comments · 387 Views
You may also like:
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"नर बेचारा"
Dr Meenu Poonia
✍️व्हाट्सअप यूनिवर्सिटी✍️
'अशांत' शेखर
بہت ہوشیار ہو گئے ہیں لوگ۔
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
लुटेरों का सरदार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दीपावली :दोहे
Sushila Joshi
हमसफ़र
N.ksahu0007@writer
"मौन "
DrLakshman Jha Parimal
एक सुन्दरी है
Varun Singh Gautam
पेड़ पौधों के बीच में
जगदीश लववंशी
कवि और चितेरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Shyari
श्याम सिंह बिष्ट
अपनो को।
Pradyumna
गाँधीजी (बाल कविता)
Ravi Prakash
तलाश
Dr. Rajeev Jain
जयकार हो जयकार हो सुखधाम राघव राम की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
झूठी वाहवाही
Shekhar Chandra Mitra
कृष्ण के जन्मदिन का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
VINOD KUMAR CHAUHAN
उजड़ती वने
AMRESH KUMAR VERMA
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
अंदर से टूट कर भी
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कान हुई मौन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Writing Challenge- सम्मान (Respect)
Sahityapedia
पुरानी यादें
Palak Shreya
देश के नौजवानों
Anamika Singh
अगर तुम खुश हो।
Taj Mohammad
★ ACTION BOLLYWOOD MUSIC ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
Loading...