Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

*धन्य तुम मॉं, सिंह पर रहती सदैव सवार हो (मुक्तक)*

*धन्य तुम मॉं सिंह पर, रहती सदैव सवार हो (मुक्तक)*
➖➖➖➖➖➖➖➖
धन्य तुम मॉं शक्ति-विद्या, बुद्धि का भंडार हो
धन्य तुम मॉं अष्टभुजधारी लिए तलवार हो
जीत लेती हो हमेशा, हर असुर को युद्ध में
धन्य तुम मॉं सिंह पर, रहती सदैव सवार हो
———————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

40 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from Ravi Prakash

You may also like:
आखिर कौन हो तुम?
आखिर कौन हो तुम?
Satish Srijan
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
Ashwini sharma
2236.
2236.
Dr.Khedu Bharti
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
कितना सकून है इन , इंसानों  की कब्र पर आकर
कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर
श्याम सिंह बिष्ट
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
💐अज्ञात के प्रति-105💐
💐अज्ञात के प्रति-105💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
Saraswati Bajpai
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
जबकि मैं इस कोशिश में नहीं हूँ
जबकि मैं इस कोशिश में नहीं हूँ
gurudeenverma198
बेरोजगारी।
बेरोजगारी।
Anil Mishra Prahari
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
ॐ
Prakash Chandra
"पतवार बन"
Dr. Kishan tandon kranti
आंधियां हैं तो शांत नीला आकाश भी है,
आंधियां हैं तो शांत नीला आकाश भी है,
Dr. Rajiv
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
आचार संहिता
आचार संहिता
Seema gupta,Alwar
"Hope is the spark that ignites the fire of possibility, and
Manisha Manjari
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जब से मेरी आशिकी,
जब से मेरी आशिकी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*नया अमृत उद्यान : सात दोहे*
*नया अमृत उद्यान : सात दोहे*
Ravi Prakash
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
pravin sharma
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
माँ
माँ
Er Sanjay Shrivastava
पैसे का खेल
पैसे का खेल
Shekhar Chandra Mitra
पवन वसंती झूम रही है
पवन वसंती झूम रही है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं ...
माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
भूले बिसरे दिन
भूले बिसरे दिन
Pratibha Kumari
Loading...