Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

!! घनाक्षरी छंद !!

घनाक्षरी छंद
**********

सभी देशवासियों को, बुद्धि और विचार दे,
एक साथ रहें सभी, आपस में प्यार दे।

दुष्ट और पापी जो भी, घूमते समाज बीच,
ऐसे दुष्ट पापियों की, जिंदगी सवांर दे।

लेखनी निखार मेरी, कन्ठ में निवास कर,
सिर्फ तेरे गीत लिखूँ, वाणी में तू धार दे।

भारती की अस्मिता पे, डाले जो बुरी नज़र,
ऐसी नज़रों के शीश, धड़ से उतार दे।

दीपक “दीप” श्रीवास्तव

3 Likes · 4 Comments · 311 Views
You may also like:
क्यो अश्क बहा रहे हो
Anamika Singh
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
बरसात
प्रकाश राम
इच्छा
Anamika Singh
✍️✍️कश्मकश✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️धुप में है साया✍️
"अशांत" शेखर
खेत
Buddha Prakash
*प्रिय सावन में मतवाली (गीतिका)*
Ravi Prakash
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“ मित्रताक अमिट छाप “
DrLakshman Jha Parimal
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️खलबली✍️
"अशांत" शेखर
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
शिकायत खुद से है अब तो......
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
✍️मन की बात✍️
"अशांत" शेखर
दीपावली,प्यार का अमृत, प्यार से दिल में, प्यार के अंदर...
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
"अशांत" शेखर
टूटता तारा
Anamika Singh
सफ़र में छाया बनकर।
Taj Mohammad
पिता
Rajiv Vishal
Loading...