Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Dec 26, 2021 · 1 min read

दौर-ए-सफर

दौर- ए- सफर जिंदगी में चलते हुए हमने कभी सोचा न था,
नफरत के ज्वार में चिरागों को इस तरह बुझते हुए देखा न था I

भविष्य के नौनिहालों को गर्त में गिरते हुए देखा,
रोटी के एक-एक टुकड़े के लिए तड़पते हुए देखा,
नन्हें फूल- कलियों को हमने आग में जलते हुए देखा ,
इंसानियत को लाचार-लहूलुहान होते हुए भी देखा I

दौर- ए- सफर जिंदगी में चलते हुए हमने कभी सोचा न था,
नफरत के ज्वार में चिरागों को इस तरह बुझते हुए देखा न था I

फूल ही फूल पर ऊँगली उठा कर अपने को माली बता रहा,
खुबसूरत बगिया में जहर का लहू पिलाकर अपना बता रहा,
मेरे प्यारे गुलशन में आग और अंगारों का खेल कौन खेल रहा ?
जानकर भी अनजान बनकर “मालिक का बंदा” खड़ा देख रहा I

दौर- ए- सफर जिंदगी में चलते हुए हमने कभी सोचा न था,
नफरत के ज्वार में चिरागों को इस तरह बुझते हुए देखा न था I

जिस पर “ मालिक “ का हाथ हो उसे कौन मिटा सकता ?
बगिया के फूलों और कलियों को कौन आँख दिखा सकता ?
तेरे खूबसूरत इस गुलशन के सपनों को कौन डिगा सकता ?
सत्ता के लिए भटकते “राज” को तू ही सही रास्ते ला सकता ?

दौर- ए- सफर जिंदगी में चलते हुए हमने कभी सोचा न था,
नफरत के ज्वार में चिरागों को इस तरह बुझते हुए देखा न था I
******
देशराज “ राज ”
कानपुर

1 Like · 268 Views
You may also like:
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️ग़लतफ़हमी✍️
'अशांत' शेखर
बारिश की बूंद....
"धानी" श्रद्धा
अनामिका के विचार
Anamika Singh
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
मुबारक हो।
Taj Mohammad
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
#हे__प्रेम
Varun Singh Gautam
गम आ मिले।
Taj Mohammad
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
कवि
Vijaykumar Gundal
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दया***
Prabhavari Jha
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
तुमको खुशी मिलती है।
Taj Mohammad
मेरे खुदा की खुदाई।
Taj Mohammad
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
Ravi Prakash
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
कितनी बार लड़ हम गए
gurudeenverma198
Loading...