#1 Trending Author

दो मत्तगयंद (मालती) सवैया छंद

दो मत्तगयंद (मालती) सवैया छंद

देश हुआ बदहाल यहाँ अब चैन कहीँ मिलता किसको है,
चैन भरा दिन काट रहे सब लूट लिए दिखता किसको है,
भारत की परवाह नहीँ यह सत्य यहाँ जचता किसको है,
ऐश करे अगुवा पर शुल्क यहाँ भरना पड़ता किसको है।।1।।

पाप यहाँ पर रोज बढ़े पर धीर धरे छुप के रहती है,
जुल्म हुआ इतना फिर भी चुप है कि नहीं कुछ भी कहती है,
झूठ कहे अगुवा जिस पे सब काज गवाँ कर के ढहती है,
सोच रहा यह भारत की जनता कितना कितना सहती है।।2।।

– आकाश महेशपुरी

1108 Views
You may also like:
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
पिता
Dr. Kishan Karigar
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
सौगंध
Shriyansh Gupta
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
औरतें
Kanchan Khanna
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
हर रोज योग करो
Krishan Singh
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Crumbling Wall
Manisha Manjari
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
रसीला आम
Buddha Prakash
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
Loading...