Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

दो रचनायें प्रकाशनार्थ

दो रचनायें पाठकों के सम्मुख हैं।प्रतिक्रिया चाहूँगा।
—————–
“रुँधे गले से”
—————–
रुँधे गले से
मत बोल
कौन सुनेगा?
जो तू कहेगा !
वो दर्द
वो वेदना
दो शब्द
जो कहेगा
वो ही होंगे अस्पष्ट !
कौन समझेगा ?
तो रो
तो चिल्ला
तो ही ‘वो’सुनेगा
तेरी व्यथा
————————-
राजेश”ललित”शर्मा
————————-
“डबडबाती आँखों से”
————————
डबडबाती आँखों से
न देख सपने,
सब धुँधला जायेंगे।
कौन अपना?
कौन पराया?
परछाईं भर,
रह जायेंगे।
———————-
राजेश”ललित”शर्मा
—————–

230 Views
You may also like:
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी लेखनी
Anamika Singh
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
Loading...