Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

दोहे-

जाति जाति के अंग से, एक कहाये देह ।
काम करे सब साथ में, देह जगाये नेह ।
हाथ पैर का शत्रु हो, पीठ पेट में बैर ।
काया कैसे देश की, माने अपनी खैर ।।
पंड़ित वह काश्मीर का, पूछ रहा है प्रश्न ।
टूटे मेरे घोसले, उनके घर क्यों जश्न ।।
हिन्दू हिन्दी देश में, लगते हैं असहाय ।
दूर देश की धूल को, जब जन माथ लगाय ।।
‘कैराना‘ इस देश का, बता रहा पहचान ।
हिन्दू का इस हिन्द में, कितना है सम्मान ।।
दफ्तर दफ्तर देख लो, या शिक्षण संस्थान ।
हिन्दी कहते हैं किसे, कितनों को पहचान ।।
-रमेश चौहान

558 Views
You may also like:
कशमकश
Anamika Singh
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
बेरूखी
Anamika Singh
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
पिता
Meenakshi Nagar
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
इश्क
Anamika Singh
Loading...