Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

दोहे-

जाति जाति के अंग से, एक कहाये देह ।
काम करे सब साथ में, देह जगाये नेह ।
हाथ पैर का शत्रु हो, पीठ पेट में बैर ।
काया कैसे देश की, माने अपनी खैर ।।
पंड़ित वह काश्मीर का, पूछ रहा है प्रश्न ।
टूटे मेरे घोसले, उनके घर क्यों जश्न ।।
हिन्दू हिन्दी देश में, लगते हैं असहाय ।
दूर देश की धूल को, जब जन माथ लगाय ।।
‘कैराना‘ इस देश का, बता रहा पहचान ।
हिन्दू का इस हिन्द में, कितना है सम्मान ।।
दफ्तर दफ्तर देख लो, या शिक्षण संस्थान ।
हिन्दी कहते हैं किसे, कितनों को पहचान ।।
-रमेश चौहान

Language: Hindi
Tag: दोहा
643 Views
You may also like:
रंग-ए-बाज़ार कर लिया खुद को
Ashok Ashq
Writing Challenge- नृत्य (Dance)
Sahityapedia
जीवन
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
💐💐प्रेम की राह पर-61💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कबले विहान होखता!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
लोरी
Shekhar Chandra Mitra
कहीं कोई भगवान नहीं है//वियोगगीत
Shiva Awasthi
इश्क़ का पिंजरा ( ग़ज़ल )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पूरी करता घर की सारी, ख्वाहिशों को वो पिता है।
सत्य कुमार प्रेमी
श्रद्धा
मनोज कर्ण
✍️ओ कान्हा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
✍️बचपन था जादुई चिराग✍️
'अशांत' शेखर
बेटियां
Shriyansh Gupta
मुक्ती
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
दीपावली 🎇🪔❤️
Skanda Joshi
इन अश्कों की।
Taj Mohammad
नाचे सितारे
Kaur Surinder
बारिश की ये पहली फुहार है
नूरफातिमा खातून नूरी
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
*दो कुंडलियाँ*
Ravi Prakash
बाधाओं से लड़ना होगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
दो पँक्ति दिल की कलम से
N.ksahu0007@writer
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 10
Dr. Meenakshi Sharma
मुस्कुराहट
SZUBAIR KHAN KHAN
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिकवा, गिला ,शिकायतें
Dr fauzia Naseem shad
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
Loading...