Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2016 · 1 min read

दोहे

सागर प्यासा ही रहा, पी पी सरिता नीर,
कैसी अनबुझ है तृषा, कैसी अनकथ पीर।

सागर से मिलने चली, सरिता मन मुस्काय,
बाँहों में लेकर उसे, गहरे दिया डुबाय।

सौ सौ बार मरे जिया, सौ सौ बार जिलाय,
आंसू बह बह थे जमा, सागर नाम धराय।

एक समंदर इश्क़ का, आँखों लिया बसाय,
डूब गए गौहर मिले, डरे मौज ले जाय।

तू सागर नदिया तेरी, तुझमें आन समाय,
खुद को खोकर सब मिले, प्रीत यही सिखलाय।

आज सफीना सौंपती, सागर रखना मान,
तेरे ही विश्वास पर, टिकी हुई अब शान।

दीपशिखा सागर –

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 410 Views
You may also like:
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
हम जिधर जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
बहारन (भोजपुरी कहानी) (प्रतियोगिता के लिए)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बचपन की यादें।
Anamika Singh
जग के पिता
DESH RAJ
ओ परदेसी तेरे गांव ने बुलाया,
अनूप अंबर
जीओ और जीने दो
Shekhar Chandra Mitra
साजिशों की छाँव में...
मनोज कर्ण
✍️साबिक़-दस्तूर✍️
'अशांत' शेखर
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
*फहराऍं आज तिरंगा (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
Prayer to the God
Buddha Prakash
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वर्षा की बूँद
Aditya Prakash
खुदा बना दे।
Taj Mohammad
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल / ये दीवार गिराने दो....!
*प्रणय प्रभात*
"शिक्षक तो बोलेगा"
पंकज कुमार कर्ण
निःशब्दता हीं, जीवन का सार होता है।
Manisha Manjari
माँ कूष्माण्डा
Vandana Namdev
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...