Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2016 · 1 min read

दोहे

मेघा संदेशा तुम जा ,अलकापुरी कहना ।
तुमरे बिना कैसे हो, यक्ष का अब जीना ॥

देख ऊपर चढता , वर्षा ऋतु का बादल ।
करता है प्रिया दग्ध , यक्ष का अब सीना ॥

रतनगिरि आश्रम में, आवास है अब मेरा ।
विश्राम प्रमाद वश , मुझे जहर पीना ॥

प्रिया न लगता मन , हाल तेरा जैसा मेरा ।
खोया तुझको है मैंने ,कामदेव से छीना ॥

Language: Hindi
Tag: दोहा
69 Likes · 352 Views
You may also like:
प्रेम
Kanchan Khanna
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
कहो अब और क्या चाहें
VINOD KUMAR CHAUHAN
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
✍️सबक✍️
'अशांत' शेखर
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
I got forever addicted.
Manisha Manjari
सुभाषितानि
Shyam Sundar Subramanian
बाल कहानी- वादा
SHAMA PARVEEN
श्री गणेश स्तुति
Shivkumar Bilagrami
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
★ दिल्लगी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
🍀🌺मैंने हर जगह ज़िक्र किया है तुम्हारा🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
# क्रांति का वो दौर
Seema 'Tu hai na'
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
नफ़रत की फ़सल
Shekhar Chandra Mitra
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
पुराना है
AJAY PRASAD
अपनी जिंदगी
Ashok Sundesha
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
चांद और चांद की पत्नी
Shiva Awasthi
✍️वक़्त आने पर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
" समर्पित पति ”
Dr Meenu Poonia
कुछ अल्फाज़ खरे ना उतरते हैं।
Taj Mohammad
ज़िंदगी नाम तो तुम्हारा है
Dr fauzia Naseem shad
*दशहरे का मेला (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वफ़ा मानते रहे
Dr. Sunita Singh
Loading...