Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#21 Trending Author

#दोहे

दुष्ट लोग ठहरें नहीं , होते धूल समान।
पवन उड़ा फैंके इन्हें , पता नहीं किस स्थान।।

सज्जन उस तरु सम रहे , जो लगता नद तीर।
निज ऋतु में फूले फले , बढ़ता रहे शरीर।।

चाहत-चाहत से बढ़े , देती यही तमीज़।
मिलें मसाले सब सही , सब्जी बने लजीज़।।

तारक मणियों से खिला , नभ ज्यों सिर का ताज।
संस्कारों से उर खिलें , आगे बढ़ें समाज।।

सच जीवन का ज्ञात कर , बिना किये कुछ देर।
देर हुयी तो काल फिर , लाये घना अँधेर।।

पीर परायी देख कर , हँस मत देना भूल।
फूल सदा कब फूलते , मिलें एक दिन धूल।।

मिटा हृदय से नेह तो , पाहन सम हैं आप।
पाहन ठोकर दे अगर , पाता सबसे श्राप।।

#आर.एस.’प्रीतम’
सर्वाधिकार सुरक्षित

198 Views
You may also like:
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
मालूम था।
Taj Mohammad
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
और न साजन तड़पाओ अब तुम
Ram Krishan Rastogi
✍️एक ना हुए साकार✍️
"अशांत" शेखर
ग्रामीण चेतना के महाकवि रामइकबाल सिंह ‘राकेश
श्रीहर्ष आचार्य
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आंखों में जब
Dr fauzia Naseem shad
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
कभी - कभी .........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
पेश आना अब अदब से।
Taj Mohammad
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
महाकवि भवप्रीताक सुर सरदार नूनबेटनी बाबू
श्रीहर्ष आचार्य
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
नहीं हंसी का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वक्त ए ज़लाल।
Taj Mohammad
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...