Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 15, 2017 · 1 min read

*दोहे और भक्ति-आंदोलन*

1.
ममता उतनी ही भली,जासे उपजे ध्यान,
उस सहयोग का कौन मूल्य,जो बना दे असहाय,
2.
प्रेमी खोजने मैं चला, प्रेमी मिला न कोई,
जो मिले सो दिलज़ले..
दिल का तो.. मालूम नहीं,
सब “मन की हाल” सुनाते..।
3.
गिर गिर और गिर देंखे किस हद तक गिर पाए,
जिस क्षण हिय विवेक जगे,फिर गिर न पाये,
4.
भले खासे निन्यान्वे जुड़े रहे, सौ न पूरे होए
यो ऐसा चक्कर पड़ा,अन्ध पिसे कुत्ता खाय
5.
सबर संतोष चाहिए, जो होए भौतिक व्यवहार,
बे-सबरा होकर रहिये,जहाँ बात ज्ञान कि होवे
6.
भूख को खाकर,नींद को सो कर,
वासना को सिंचकर न कोई तृप्त हुआ,
न होने के ..आकार,
बस “समझ” एक उपाय जो दे पिण्ड छुड़ाए,

डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,

1 Like · 1 Comment · 379 Views
You may also like:
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...