Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दोहा

देख किसानी बिल जरा,चर्चे में सरकार।
दिल्ली में बैठे अडिग, बिल से पड़ी दरार।।1

पाप पुण्य का भेद कर,फैलाओ तुम ज्ञान।
संचय करके पुण्य का,दूर करो अभिमान।।2

पंचों से मिलकर बना,अपना ये सरपंच।
अधिकारों के नाम पर,करता ये परपंच।।3

आधुनिक शौक जो करे,ले अपनो से रार।
बंदिशे सारी तोड़कर,करे खूब तकरार।।4

प्रियतम मैं ना आ सका,इस सावन में गाँव।
बना रहे प्रेम सदैव,माँ आँचल का छाँव।।5

गणेश नाथ तिवारी”विनायक”

302 Views
You may also like:
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
✍️क्रांतिसूर्य✍️
'अशांत' शेखर
कोई रोक नही सकता
Anamika Singh
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
साथ भी दूंगा नहीं यार मैं नफरत के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
तड़पती रही मैं सारी रात
Ram Krishan Rastogi
*बुलाता रहा (आध्यात्मिक गीतिका)*
Ravi Prakash
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
क्या मुझे हिफ़्ज़
Dr fauzia Naseem shad
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
नशा कऽ क नहि गबावं अपन जान यौ
VY Entertainment
कारवाँ:श्री दयानंद गुप्त समग्र
Ravi Prakash
भीगे अरमाँ भीगी पलकें
VINOD KUMAR CHAUHAN
अश्रुपात्र... A glass of tears भाग - 4
Dr. Meenakshi Sharma
शम्बूक हत्या! सत्य या मिथ्या?
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्द की कलम।
Taj Mohammad
रखना खयाल मेरे भाई हमेशा
gurudeenverma198
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
प्यार का अलख
DESH RAJ
✍️सलं...!✍️
'अशांत' शेखर
बारिश की बूंद....
"धानी" श्रद्धा
तेरा ज़िक्र।
Taj Mohammad
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
✍️ओर भी कुछ है जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
Loading...