Sep 21, 2016 · 1 min read

दोहा मुक्तक

अहंकार- दंभ, गर्व, अभिमान, दर्प, मद, घमंड, मान शब्द
दोहा मुक्तक…………

आन बान अरु शान पर, बना रहे अभिमान
अहंकार जिसने किया, उसका मर्दन मान
दंभ भर रहा पातकी, बेबुनियादी पाक
मद घमंड में चूर है, बचे न नाम निशान॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

206 Views
You may also like:
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
सच एक दिन
gurudeenverma198
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
*सोमनाथ मंदिर 【गीत】*
Ravi Prakash
नादानी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मतदान का दौर
Anamika Singh
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
मेरे पापा।
Taj Mohammad
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H.
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
Crumbling Wall
Manisha Manjari
Loading...