Sep 14, 2016 · 1 min read

दोहा मुक्तक

दोहा मुक्तक……आप सभी गुणीजनों को हिंदी दिवस की हार्दिक बधाई…..
“मुक्तक”

रसना मीठी रसमयी, वाणी बचन जबान
रसिका हिंदी माँ मयी, जिह्वा कंठ महान
जस लिक्खे तस गाइयाँ, भाषा यह अनमोल
देवनागरी लिपि सरल, वाचा मधुर सुजान।।

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

112 Views
You may also like:
$$पिता$$
दिनेश एल० "जैहिंद"
पिता का पता
श्री रमण
An abeyance
Aditya Prakash
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
शिव शम्भु
Anamika Singh
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लत...
Sapna K S
पिता
Neha Sharma
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H.
दर्द।
Taj Mohammad
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
एकाकीपन
Rekha Drolia
प्रार्थना
Anamika Singh
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
शासन वही करता है
gurudeenverma198
वसंत का संदेश
Anamika Singh
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
Loading...