Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2024 · 1 min read

दोहा पंचक. . . .इश्क

दोहा पंचक. . . .इश्क

क्या सोये दिल इश्क में,खड़े सिरहाने ख्वाब ।
नशा हुस्न का यूँ चढ़ा, फीकी लगी शराब ।।

उफ्फ बला की शोखियाँ, वो कातिल अंदाज ।
धीरे-धीरे वस्ल में, राज रहे ना राज ।।

दो लफ्जों में दे दिया, उल्फत का पैगाम ।
इन्तिज़ार में काट दी, हमने उम्र तमाम ।।

रह -रह कर उड़ती रही, रुख पर गिरी नकाब ।
आँखों के अल्फाज़ को, समझा नहीं शबाब ।।

सुर्ख आरिजों पर हया , ऐसा करे कमाल ।
आ कर फिर उस शोख का , जाता नहीं खयाल ।।

सुशील सरना / 21-5-24

26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गजल
गजल
Punam Pande
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हवाओ में हुं महसूस करो
हवाओ में हुं महसूस करो
Rituraj shivem verma
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
Vishal babu (vishu)
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
manjula chauhan
इन्सान बन रहा महान
इन्सान बन रहा महान
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
Shivkumar Bilagrami
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
कवि रमेशराज
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
...
...
Ravi Yadav
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
Neelam Sharma
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
कृष्णकांत गुर्जर
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
SHAMA PARVEEN
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
Kanchan Alok Malu
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
Shweta Soni
आप अपना
आप अपना
Dr fauzia Naseem shad
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
तुम्हारी कहानी
तुम्हारी कहानी
PRATIK JANGID
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बदरा बरसे
बदरा बरसे
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन और रंग
जीवन और रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2583.पूर्णिका
2583.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो भी थी क्या मजे की ज़िंदगी, जो सफ़र में गुजर चले,
वो भी थी क्या मजे की ज़िंदगी, जो सफ़र में गुजर चले,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
Loading...