Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 7, 2016 · 1 min read

दोस्त

मुक्तक
अपनापन भरपूर दे,सनेह से दे सींच।
दिलदारी भरपूर हो,कठिनाई के बीच।
उलाहना ना दे कभी,हरे यार का दर्द।
मिले तो आतुरता से,बहियों में ले भींच।

1 Comment · 290 Views
You may also like:
पल
sangeeta beniwal
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
हम सब एक है।
Anamika Singh
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
बेरूखी
Anamika Singh
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
महँगाई
आकाश महेशपुरी
Loading...