Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

दोस्त

मुक्तक
अपनापन भरपूर दे,सनेह से दे सींच।
दिलदारी भरपूर हो,कठिनाई के बीच।
उलाहना ना दे कभी,हरे यार का दर्द।
मिले तो आतुरता से,बहियों में ले भींच।

Language: Hindi
1 Comment · 385 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from avadhoot rathore
View all
You may also like:
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
अनुभव एक ताबीज है
अनुभव एक ताबीज है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुक्तक
मुक्तक
Er.Navaneet R Shandily
लगइलू आग पानी में ghazal by Vinit Singh Shayar
लगइलू आग पानी में ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
दरकते हुए रिश्तों में
दरकते हुए रिश्तों में
Dr fauzia Naseem shad
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हरिगीतिका
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों को भी, हक़ीक़त बनाकर दिखाती हैं।
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों को भी, हक़ीक़त बनाकर दिखाती हैं।
Manisha Manjari
समय करेगा निर्णय
समय करेगा निर्णय
Shekhar Chandra Mitra
तनावमुक्त
तनावमुक्त
Kanchan Khanna
मरासिम
मरासिम
Shyam Sundar Subramanian
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*अध्यापक महोदय के ऑनलाइन स्थानांतरण हेतु प्रबंधक की अनापत्ति*
*अध्यापक महोदय के ऑनलाइन स्थानांतरण हेतु प्रबंधक की अनापत्ति*
Ravi Prakash
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वह खूब रोए।
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
दीप जले है दीप जले
दीप जले है दीप जले
Buddha Prakash
दिवाली
दिवाली
Aditya Prakash
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
खेल दिवस पर विशेष
खेल दिवस पर विशेष
बिमल तिवारी आत्मबोध
मैं तो महज इंसान हूँ
मैं तो महज इंसान हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
शुक्रिया कोरोना
शुक्रिया कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
Neeraj Agarwal
उसकी दहलीज पर
उसकी दहलीज पर
Satish Srijan
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
ठीक है अब मैं भी
ठीक है अब मैं भी
gurudeenverma198
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#निर्विवाद...
#निर्विवाद...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...