Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 25, 2022 · 1 min read

“दोस्त”

नसीब में इश्क़ नहीं लिखा खुदा ने,
पर दोस्त बहुत खास लिखें है,
जान से भी ज्यादा प्यारे मुझे यार दिए है।
“लोहित टम्टा

2 Likes · 58 Views
You may also like:
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
तीन किताबें
Buddha Prakash
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
"अशांत" शेखर
पापा
Kanchan Khanna
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
बंजारों का।
Taj Mohammad
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
यादें
Sidhant Sharma
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
भारत की जमीं
DESH RAJ
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
Loading...