Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

…..दोस्ती …….

………….दोस्ती ………
मैं तुम्हे चाहता तो बहुत था मगर तुम प्रेम नहीं करती थीं मुझसे आज आखिरकार पता चल ही गया कि तुम अनूप से प्यार करतीं थीं ..अनूप मेरा सबसे अच्छा दोस्त मुझे अपना सबसे बड़ा दुश्मन लगने लगा मैं कोई मौका हाथ से खाली नहीं जाने देता था अनूप को तुम्हारी नजरों से गिराने का ..एक दिन मेरे साथ दुर्घटना घटित हो गयी और में कोमा में चला गया ..तीन महीने बाद कोमा से बाहर आया जब आँख खुली तो देखा तुम और अनूप दोनों मेरे पास बैठे हो ..माँ ने बताया मैं मर गया होता अगर तुम और अनूप मुझे न बचाते तो ..तुम दोंनों ने दिन रात एक करके मेरी बहुत सेवा की थी ….मुझे खुद पर शर्म महसूस होने लगी आज मैं अनूप को गिराते गिराते खुद अपनी ही नजरों में गिर गया था .मैंने अपने सबसे अच्छे दोस्तों के साथ बहुत गलत व्यवहार किया था .मैंने दोंनों के पैर पकड़ लिये और कहा मुझे माफ कर दो हस्पताल में सब मुझे और तुम दोनों को ही देख रहे थे सब सोचते ही रह गये यह माजरा क्या है और तुम दोनों ने मुझे अपने गले लगाकर कहा था दोस्ती में नो सॉरी नो थैंक्स ..उस दिन मुझे महसूस हुआ बड़ा आसान होता है दुश्मन बन जाना ..दोस्त बनकर दोस्ती निभाना बहुत कठिन काम है आज मैं, अनूप और तुम्हारे आगे खुद को बहुत छोटा महसूस कर रहा था …
रागिनी गर्ग
रामपुर यू़.पी.

3 Likes · 391 Views
You may also like:
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
गीत
शेख़ जाफ़र खान
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
अनामिका के विचार
Anamika Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
पापा
सेजल गोस्वामी
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
Nurse An Angel
Buddha Prakash
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...